छात्रों ने गाया लब पे आती है दुआ बनके तमन्ना मेरी, VHP की शिकायत पर प्रिंसिपल निलंबित

उत्तर प्रदेश के पीलीभीत जिले में एक सरकारी स्कूल के प्रधानाध्यापक को विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) और बजरंग दल की स्थानीय इकाई की शिकायत पर निलंबि’त कर दिया गया, 268 छात्रों पर एक शिक्षक वो भी अब स्स्पेंड.

संगठनों का आरोप है कि छात्र सुबह की प्रार्थना में ‘लब पे आती है दुआ बनके तमन्ना मेरी’ गीत गा रहे थे.

कविता ‘लब पे आती है दुआ’ को अल्लामा इकबाल के नाम से प्रसिद्ध मोहम्मद इकबाल ने 1902 में लिखा था।
इकबाल ने ही इस प्रसिद्ध पंक्ति ‘सारे जहां से अच्छा हिंदुस्तान हमारा’ को लिखा है.

रिपोर्ट के अनुसार,

वीएचपी की शिकायत’ पर ब्लॉक शिक्षा अधिकारी (बीईओ) उपेंद्र कुमार ने जांच शुरू की। जांच में पाया गया कि स्कूल में बच्चे सुबह की सभा में अक्सर यही कविता गाते थे। पीलीभीत के जिला अधिकारी वैभव श्रीवास्तव ने कहा कि प्रधानाध्यापक को इसलिए निलंबि’त किया गया है क्योंकि वह छात्रों से राष्ट्रगान नहीं करवाता था। उन्होंने कहा, ‘प्रधानाध्यापक अगर छात्रों को कोई अन्य कविता पढ़ाना चाहते थे, तो उन्हें अनुमति लेनी चाहिए।

अगर वह छात्रों से कोई कविता गान कराते हैं और राष्ट्रगान नहीं कराते हैं तो उनके खिलाफ आरोप बनता है.

हालांकि निलंबित शिक्षक फुरकान अली (45) ने आरोपों को खारिज किया है.

फुरकान ने कहा, ‘छात्र लगातार राष्ट्रगान करते हैं और इकबाल की कविता कक्षा एक से आठ तक उर्दू पाठ्यक्रम का हिस्सा है। वीएचपी और हिंदू युवा वाहिनी के कार्यकर्ताओं ने मुझे निकालने की मांग करते हुए स्कूल और कलेक्टरेट के बाहर विरोध किया। मैंने सिर्फ वह कविता गाई है जो सरकारी स्कूल के पाठ्यक्रम का हिस्सा है. मेरे छात्र भी प्रतिदिन सभा के दौरान ‘भारत माता की जय’ जैसे देशभक्ति के नारे लगाते हैं.’

पीलीभीत के बेसिक शिक्षा अधिकारी (बीएसए) देवेंद्र स्वरू’प ने हालांकि कहा कि वीएचपी और बजरंग दल के सदस्यों की शिकायत इसके खिलाफ नहीं है कि राष्ट्रगान होता है या नहीं, बल्कि उसने इकबाल की कविता का विरोध किया गया है.

विहिप के जिला प्रमुख अंबरीश मिश्रा ने कहा कि उन्होंने सरकारी प्राइमरी स्कूल में मदरसा की कविता को गाए जाने का विरोध किया था. उन्होंने कहा, ‘सरकारी स्कूल में अलग-अलग प्रार्थनाएं गाने के लिए हमने प्रधानाध्यापक के खिलाफ कार्रवाई के लिए बीएसए को लिखित शिकायत की है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *